WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Channel Join Now

School Kaise Khole In Hindi : भारत में स्कूल कैसे खोले ? जानें स्कूल खोलने के लिए किन किन चीजों की होती हैं आवश्यकता

School Kaise Khole In Hindi : आज के समय में पढ़ाई करना सभी के लिए महत्वपूर्ण हो गया है, इसलिए शैक्षिक संस्थानों ने हमेशा लाखों छात्रों को उनके करियर और जीवन में नयी ऊंचाइयों को हासिल करने में मदद प्रदान करता है । हालांकि भारत में मुख्य रूप से मेट्रोपॉलिटन सिटी में एक स्कूल शुरू करना काफी खर्चीला साबित हो सकता है । स्कूल खोलने के लिए समय और पैसों के अच्छे निवेश की आवश्यकता होती है, इसके लिए एनजीओ के अंतर्गत आने वाले स्कूलों को कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के तहत रजिस्टर किया गया था ।

स्कूल 1860 के समिति अधिनियम के तहत खोले जाते हैं, स्कूल को खोलने की लागत कई कर्म पर निर्भर करती है । अगर आप भी स्कूल खोलना चाहते हैं तो मैं आपको इसके लिए क्या कारण है बताने जा रहा हूं । इसमें स्कूल किस स्थान पर खोला गया है, उसके लिए कौन सा बोर्ड चुना गया है इत्यादि बातों पर स्कूल खोलने काफी निर्भर करता है । अगर आप भी भारत में स्कूल खोलना चाहते हैं तो इसके लिए मैं आपको नीचे दिए गए पोस्ट के माध्यम से विस्तार पूर्वक सभी जानकारी प्रदान करने जा रहा हूं, अतः आप इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़े ।

School Kaise Khole In Hindi
School Kaise Khole In Hindi

School Kaise Khole In Hindi : भारत में स्कूल खोलने के लिए आवश्यक चरण

1. स्कूल के प्रकार का निर्धारण

अगर आप भारत में स्कूल खोलना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको स्कूल के प्रकार का निर्धारण करना होगा कि आप प्ले स्कूल, किंडर गार्डन, प्री प्राइमरी, प्राइमरी, सेकेंडरी या हायर सेकेंडरी जैसे विभिन्न प्रकार के स्कूलों में से किसका चयन करते हैं । कक्षा आठवी या उससे अधिक की कक्षाओं को स्कूल को शुरू करने के लिए व्यक्ति को स्टेट बोर्ड की अनुमति लेनी पड़ती है ।

School Kaise Khole In Hindi
School Kaise Khole In Hindi

इसलिए राज्य बोर्ड से एफिलिएट सेकेंडरी या सीनियर सेकेंडरी स्कूल तथा अन्य बोडो जैसे केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड या भारतीय स्कूल प्रमाण पत्र परीक्षा परिषद अंतरराष्ट्रीय बोर्ड या 29 राज्यों के राज्य बोर्ड जैसे वोटो के लिए आवेदन किया जाता है उसके बाद आपको मान्यता प्राप्त होती है ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Channel Join Now
School Kaise Khole In Hindi
School Kaise Khole In Hindi

2. स्कूल शुरू करने के लिए आवश्यक भूमि

बहुत से लोगों के मन में सवाल आता है कि स्कूल को खोलने के लिए कितनी जमीन चाहिए तो आईए जानते हैं इसके बारे में जानकारी-

CBSE बोर्ड के लिए भूमि की आवश्यकता

  • अगर आप सीबीएसई बोर्ड का स्कूल खोलना चाहते हैं तो इसके लिए दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई या बेंगलुरु जैसे प्रमुख महानगरों में प्री प्राइमरी से सीनियर सेकेंडरी तक स्कूल को ओपन करने के लिए न्यूनतम एक एकड़ जमीन से लेकर 4000 वर्ग मीटर भूमि की आवश्यकता होती है ।
  • अगर स्कूल माध्यमिक स्तर तक के लिए खोलना चाहते हैं यानी की दसवीं कक्षा तक के लिए तो इसके लिए आधा एकड़ भूमि या 2000 वर्ग मीटर की भूमि की जरूरत होती है ।
  • 15 लाख से अधिक आबादी वाले इस प्रमुख शहरों में प्री प्राइमरी से 12वीं तक स्कूल खोलने के लिए कम से कम आपको एक एकड़ भूमि की जरूरत होगी छोटे शहरों में स्कूल खोलने के लिए 1.5 एकड़ जमीन की आवश्यकता पड़ती है ।

भूमि की आवश्यकता: CISCE बोर्ड [ School Kaise Khole In Hindi ]

सीआईएसएस बोर्ड की तरफ से एफिलिएटिड स्कूल के लिए आपको कम से कम 2000 वर्ग मीटर जमीन की आवश्यकता होती है । प्रत्येक कक्षा का आकार 400 वर्ग फुट से काम नहीं होना चाहिए । इसके अतिरिक्त खेल का मैदान, कंप्यूटर और साइंस लैब, लाइब्रेरी, आर्ट रूम, एमपी थियेटर स्टेज आदि के लिए न्यूनतम क्लास साइज 400 वर्ग फुट में होना आवश्यक है ।

ज़मीन का अलोटमेंट

अगर आप किसी भी प्रकार का स्कूल खोलने हैं तो स्कूल को खोलने के लिए आपको डीडीए या एमसीडी से और राज्य के संबंध विकास प्राधिकरण से जमीन को खरीदना होगा ।

3. बोर्ड से एफिलिएटेड

स्कूल को खोलने के लिए आपको बोर्ड से एफिलेटेड लेना होगा, इसके लिए आपको सीआईएसएस और सीबीएसई बोर्ड के लिए आवेदन करने पर 1 साल तक स्कूल का संचालन करना आवश्यक होगा ।

4. स्कूल स्ट्रक्चर की स्थापना [ School Kaise Khole In Hindi ]

स्कूल को खोलने के लिए आपको स्कूल स्ट्रक्चर की स्थापना करना होगा । जिसके लिए आपको हेड मास्टर, शिक्षक, प्रिंसिपल, वाइस प्रिंसिपल, असिस्टेंट टीचर, एसोसिएशन टीचर, एकाउंट्स, डिपार्टमेंट लैब असिस्टेंट, कंप्यूटर प्रोफेशनल, चपरासी, सहायक कर्मचारी, ड्राइवर इत्यादि की नियुक्ति करनी होगी तभी आप अच्छा से एक स्कूल के लिए स्ट्रक्चर की स्थापना कर सकते हैं ।

School Kaise Khole In Hindi : स्कूल खोलने के लिए अतिरिक्त आवश्यक चीज़ें

  • एडमिशन: एडमिशन फॉर्म, मेडिकल फॉर्म, एप्लीकेशन फॉर्म, फीस स्ट्रक्चर, स्कूल ब्रोशर
  • स्टेशनरी: स्कूल लेटरहेड,ऑफिस स्टेशनरी, आर्ट एंड क्राफ्ट स्टेशनरी
  • स्टाफ सिलेक्शन: स्कूल की आवश्यकताओं के अनुसार
  • विज्ञापन: समाचार पत्रों के विज्ञापन, होर्डिंग, फोटोग्राफ आदि।
  • यूनिफॉर्म: छात्रों के लिए सर्दियों और गर्मियों की यूनिफॉर्म, टीचिंग स्टाफ, नॉन–टीचिंग स्टाफ, सहायक कर्मचारी के लिए ड्रेस कोड
  • क्लास रूम के लिए आवश्यक चीज़ें: सफेद, काले, हरे और इंटरैक्टिव बोर्ड, कर्मचारियों और शिक्षकों के लिए टेबल और कुर्सियां, सीसीटीवी और चाय व कॉफी के लिए वेंडिंग मशीन
  • खरीद: किताबें, फर्नीचर और कंप्यूटर, वाटर कूलर और प्यूरीफायर, वीडियो और स्टिल कैमरा, इंटरनेट और वाई–फाई कनेक्शन,स्कूल आईडेंटिटी कार्ड, पोस्टर, पेंटिंग, स्कूल सॉफ्टवेयर आदि।
  • ट्रांसपोर्ट: स्कूल कर्मचारियों के लिए स्कूल ट्रांसपोर्ट, मेडिकल वैन, वाहनों के लिए पार्किंग
  • कंस्ट्रक्शन: स्कूल बिल्डिंग, टीचिंग और नॉन–टीचिंग स्टाफ क्वार्टर, मेस, कैंटीन और बोर्डिंग (अगर आवश्यक हो)
  • स्कूल पॉलिसी: स्कूल का नाम, स्कूल का विजन और मिशन, टीचर्स फॉर्म और स्कूल का लोगो, वेबसाइट और कैलेंडर।
  • प्लांटेशन: सदाबहार पेड़, मौसमी फूल, सभी क्षेत्रों में घास, बाड़ लगाना और इनडोर पौधें लगाना।

School Kaise Khole In Hindi

अगर आप भारत में एक बार स्कूल खोल लेते हैं और जब आपका स्कूल शुरू हो जाता है, तब आपको संबंधित अधिकारियों से लाइसेंस और अनुमति प्राप्त करने के लिए कुछ साल का समय लग जाता है । शिक्षा विभाग एक निश्चित क्षेत्र में स्कूल खोलने की आवश्यकताओं पर विचार करने के पश्चात आपको अनिवार्यता सर्टिफिकेट (ईसी) जारी करता है । DOE से ये सर्टिफिकेट लेने के 3 साल के अंदर स्कूल का निर्माण शुरू कर दिया जाता है ।

School Kaise Khole In Hindi
School Kaise Khole In Hindi

समिति का फाइनेंशियल स्टेटस चेक करने के बाद सदस्यों के सहयोग की पुष्टि करने और समिति की गैर–मालिकाना प्रकृति को प्रमाणित करने के बाद ईसी जारी किया जाता है । अगर कोई स्कूल शुरू करने की योजना बना रहे हैं तो आप इसके लिए आसानी से बैंक को या फिर एनबीएफसी से बिजनेस का लोन ले सकते हैं क्योंकि स्कूल खोलने के लिए शुरूआत में बहुत अधिक निवेश की आवश्यकता होती है और लोग इसमें अपनी सारी सेविंग इन्वेस्ट नहीं करना चाहते हैं, अतः लोन इसके लिए ले सकते हैं ।

School Kaise Khole In Hindi Links

School Kaise Khole In Hindi NewsClick Here

सारांश 

मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी यह जानकारी School Kaise Khole In Hindi पसंद आई होगी । अगर आपको मेरी यह जानकारी पसंद आई हैं तो आप इसे लाइक करे और अपने दोस्तों, फॅमिली और ग्रुप में जरुर शेयर करे ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी मिल सके ।

धन्यवाद !!!

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Channel Join Now

Virat has over 5 years of working experience in the editorial field. He has been working with Nukarinews.com from the last 1 years. He covers current news and important articles on Sarkari Exam in Hindi on Nukarinews.com. Also he give information of Sarkari Yojana through his articles. With a graduate degree in Arts, You can contact him through his email at contentwriterr777@gmail.com for any help.

Leave a Comment